स्वागतम्

भारत का सर्वोच्च पर्वत शिखर कौनसा है K2 – गॉडविन ऑस्टिन या कंचनजंघा

भारत का सर्वोच्च पर्वत शिखर कौनसा है K2 - गॉडविन ऑस्टिन या कंचनजंघा (Highest Mountain Peak in India Godwin-Austen or Kangchenjunga) - भारत की सर्वोच्च चोटी कौनसी है या भारत का…

Continue Reading

राष्ट्रीय उद्यान, वन्य जीव अभ्यारण्य और पक्षी विहार

राष्ट्रीय उद्यान, वन्य जीव अभ्यारण्य और पक्षी विहार ( National Parks, Wild Life Sanctuaries and Bird Sanctuaries ) - वर्तमान में भारत में 500 से भी अधिक वन्य जीव अभ्यारण्य…

Continue Reading

भारत की जनजातियाँ (Tribes of India)

भारत की जनजातियाँ (Tribes of India) - जनजातियों की कुछ विशेषताएं होती हैं। जैसे - आदिम लक्षण, भौगोलिक अलगाव, विशिष्ट संस्कृति, आर्थिक रूप से पिछड़ापन, बाहरी समुदाय के साथ संपर्क…

Continue Reading

भौतिक विज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर भाग – 2

भौतिक विज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर - किसी भी प्रतियोगी परीक्षा में सामान्य विज्ञान से सम्बन्धित प्रश्न जरुर पूछे जाते हैं और जिनमें भौतिक विज्ञान के प्रश्न भी होते हैं। ये…

Continue Reading

वर्धन वंश या पुष्यभूति वंश : हर्ष वर्धन

वर्धन वंश (Vardhana Dynasty) को पुष्यभूति वंश (Pushyabhuti Dynasty) भी कहा जाता है। गुप्तों के बाद उत्तर भारत में सबसे विस्तृत साम्राज्य की स्थापना इन्होने ही की। इस वंश का उदय…

Continue Reading

अन्हिलवाड़, बादामी/वातापी और कल्याणी का चालुक्य वंश

चालुक्य वंश (Chalukya Dynasty) - भारतीय इतिहास में चालुक्य वंश की तीन शाखाओं की जानकारी प्राप्त होती है। अन्हिलवाड़ का चालुक्य/सोलंकी वंश, बादामी/वातापी के चालुक्य, कल्याणी के चालुक्य। अन्हिलवाड़ का चालुक्य/सोलंकी वंश…

Continue Reading

सोलह महाजनपद और उनकी राजधानी

सोलह महाजनपद (16 Mahajanapadas) और उनकी राजधानी - छठी शताब्दी ईo पूo भारत में 16 महाजनपदों का अस्तित्व था। इसकी जानकारी बौद्ध ग्रन्थ अंगुत्तर निकाय और जैन ग्रन्थ भगवतीसूत्र से प्राप्त होती…

Continue Reading

चंदेल वंश के शासक : यशोवर्मन, महाराजाधिराज धंग, परमाल

चंदेल वंश (Chandela Dynasty) के शासक - चंदेल शासकों का उदय आधुनिक बुंदेलखंड क्षेत्र में 9 वीं सदी में हुआ था। चंदेल वंश की स्थापना 831 ईo में नन्नुक ने की थी।…

Continue Reading

मालवा का परमार वंश : हर्ष, वाक्यपति मुंज, सिंधुराज, राजा भोज

मालवा का परमार वंश (Paramara Dynasty) - परमार वंश का संस्थापक उपेंद्रराज/कृष्णराज था। उदयपुर लेख में इसे द्विजवर्गरत्न कहा गया है। इस वंश के प्रारंभिक इतिहास को जानने का सबसे…

Continue Reading

सेन वंश : सामन्त सेन, विजय सेन, बल्लाल सेन, लक्ष्मण सेन

सेन वंश (Sena/Sen Dynasty) की स्थापना सामंत सेन ने की थी। इस वंश का आदि पुरुष वीरसेन को माना जाता है। ये अपनी उत्पत्ति ब्रह्मक्षत्र परंपरा से मानते हैं। पाल वंश…

Continue Reading

गहड़वाल वंश (Gahadavala Dynasty)

गहड़वाल वंश (Gahadavala Dynasty) - गहड़वाल वंश का मूल निवास स्थान विंध्याचल पर्वत का वन क्षेत्र माना जाता है। पहले ये प्रतिहारों के सामंत थे। प्रतिहारों के पतन के बाद कन्नौज पर…

Continue Reading

कश्मीर के राजवंश : कार्कोट वंश, उत्पल वंश, लोहार वंश

कश्मीर के राजवंश : कार्कोट वंश, उत्पल वंश, लोहार वंश राजतरंगिणी कश्मीर का इतिहास जानने के लिए कल्हण की राजतरंगिणी को प्रथम ऐतिहासिक पुस्तक का दर्जा प्राप्त है। इसमें आदिकाल…

Continue Reading

चौहान वंश : वासुदेव, वाक्यपतिराज, पृथ्वीराज चौहान, गोविन्द

चौहान वंश का संस्थापक वासुदेव को माना जाता है। इनकी प्रारंभिक राजधानी अहच्छत्रपुर थी। बाद में अजयराज के समय अजमेर इनकी राजधानी बनी। इस वंश का सबसे शक्तिशाली शासक विग्रहराज…

Continue Reading

पल्लव वंश और साम्राज्य (Pallava Dynasty and Empire)

पल्लव वंश और साम्राज्य (Pallava Dynasty and Empire) - पल्लव का अर्थ होता है लता परन्तु तमिल भाषा में पल्लव से आशय डाकू से है। पल्लव वंश की स्थापना सिंहवर्मा ने…

Continue Reading
Close Menu
Inline
Inline