स्वागतम्
कृपया पोस्ट शेयर करें...

वैज्ञानिक उपकरण एवं उनके कार्य ( Scientific Equipment and Its Functions ) – इस लेख में विभिन्न उपकरणों एवं उनके द्वारा किये जाने वाले कार्यों की पूरी जानकारी दी गयी है।

  • उपकरण – कार्य
  • अक्युमुलेटर – इसकी सहायता से विद्युत ऊर्जा का संग्रह किया जाता है। ताकि इसे आवश्यकता पड़ने पर काम में लिया जा सके। 
  • एयरोमीटर – इसके प्रयोग से वायु तथा गैस का घनत्व ज्ञात किया जाता है।
  • अल्टीमीटर – इसके प्रयोग से उड़ते हुए वायुयान की ऊँचाई मापी जाती है।
  • आमीटर – इसका प्रयोग विद्युत धारा को मापने के लिए किया जाता है।
  • एनीमोमीटर – इसके प्रयोग से हवा की शक्ति व गति को मापा जाता है।
  • ऑडियोमीटर – इसका प्रयोग करके ध्वनि की तीव्रता मापी जाती है।
  • ऑडियोफोन – इसका उपयोग सुनाने में सहायता के लिए कान में लगा के किया जाता है।
  • बैलेस्टिक गैल्वानोमीटर -इसके द्वारा लघु धरा (माइक्रो एम्पियर) को नापा जाता है।
  • बैरोमीटर – इसके द्वारा वायु दाब को मापा जाता है।
  • कैलीपर्स – इसके द्वारा बेलनाकार बस्तुओं के अंदर तथा बाहर के व्यास नापे जाते हैं। इससे वास्तु की मोटाई भी नापी जाती है।
  • कैलोरीमीटर – यह ऊष्मा की मात्रा ज्ञात करने में काम आता है। यह ताँबे का बना यंत्र होता है।
  • कारबुरेटर – इसका उपयोग अन्तः दहन पेट्रोल इंजनों में होता है। इसके द्वारा पेट्रोल व हवा का मिश्रण बनाया जाता है।
  • कार्डियोग्राम – इस यंत्र के द्वारा ह्रदय गति की जाँच की जाती है। इसे इलेक्ट्रो कार्डियोग्राम भी कहा जाता है।
  • क्रोनोमीटर – यह जलयानों पर लगा होता है। इससे सही समय का पता लगता है।
  • सिनेमाटोग्राफ – इस उपकरण की मदद से छोटी छोटी फिल्म्स का बड़े पर्दे पर प्रोजेक्शन किया जाता है।
  • कम्पास बॉक्स– इसकी मदद से दिशा का ज्ञान किया जाया है।
  • साइक्लोट्रॉन – इसकी सहायता से आवेशित कणों को त्वरित किया जाता है।
  • डेनसिटीमीटर – इसके उपयोग से किसी पदार्थ का घनत्व मापा जाता है।
  • डिक्टाफोन – इसके द्वारा अपनी बात तथा आदेश को दूसरों को सुनाने के लिए रिकॉर्ड किया जाता है।
  • नमनमापी – इसके द्वारा किसी स्थान का नमन कोण मापा जाता है।
  • डायनेमोमीटर – इसका उपयोग इंजन द्वारा उत्पन्न की गयी शक्ति को मापने में किया जाता है।
  • एपीडास्कोप – इसका उपयोग चित्रों का पर्दे पर प्रक्षेपण करने में किया जाता है।
  • फैदोमीटर – इसका उपयोग करके समुद्र की गहराई नापी जाती है।
  • गैल्वेनोमीटर – इसका उपयोग छोटे विद्युत परिपथों में विद्युत धारा की दिशा व मात्रा ज्ञात करने में किया जाता है।
  • गाइगर मूलर काउण्ट – इसकी सहायता से रेडियो एक्टिव विकिरण के स्त्रोत की गणना की जाती है।
  • ग्रेवीमीटर – इसके उपयोग से पानी की सतह पर तेल की उपस्थिति ज्ञात की जाती है।
  • गाइरोस्कोप – इस यंत्र की सहायता से घूमती हुयी वस्तुओं की चाल ज्ञात की जाती है।
  • हाइड्रोमीटर – इसके द्वारा द्रवों का आपेक्षिक घनत्व नामा जाता है।
  • हाइड्रोफोन – यह पानी के अंदर ध्वनि की तरंगों की गणना करने के काम आता है।
  • हाइग्रोमीटर – इसकी सहायता से वायुमण्डल में उपस्थित आर्द्रता नापी जाती है।
  • स्क्रूगेज – इसके माध्यम से बारीक तारों के व्यास को मापा जाता है।
  • किलोस्कोप – टेलीविजन द्वारा प्राप्त चित्रों को इसी के ऊपर देखा जाता है।
  • कैलिडोस्कोप – इसके द्वारा रेखा गणितीय आकृतियाँ भिन्न भिन्न प्रकार की दिखाई पड़ती हैं।
  • लाइटिंग कंडक्टर – इसका प्रयोग ऊँची इमारतों की बिजली से सुरक्षा के लिए किया जाता है। यह इमारतों के उनके ऊँचे भाग पर लगा दिया जाता है।
  • मेगाफोन – इसके द्वारा ध्वनि को दूर स्थान पर ले जाया जाता है।
  • मैनोमीटर – गैस का दाब ज्ञात करने में इसका उपयोग किया जाता है।
  • माइक्रोमीटर – यह एक प्रकार का पैनमा है। इससे मिलीमीटर के भी हजारवें भाग को नापा जा सकता है।
  • माइक्रोस्कोप – जिन वस्तुओं को आँखों से नहीं देखा जा सकता उन्हें इसके माध्यम से देखा जाता है।
  • माइक्रोटोम – किसी वस्तु को बहुत छोटे छोटे टुकड़ों में काटने के काम आता है।
  • ओडोमीटर – पहिये द्वारा चली गयी दूरी मापने के काम आता है।
  • ओसिलोग्राफ – विद्युत व यांत्रिक कम्पनों को ग्राफ पर चित्रित करने का यंत्र।
  • पेरिस्कोप – पानी के अंदर से पानी के ऊपर का दृश्य देखने में प्रयुक्त यंत्र। इसका प्रयोग पनडुब्बियों में किया जाता है।
  • पायरोमीटर – दूर स्थित वस्तुओं जैसे सूर्य, के ताप को मापने में इसका प्रयोग किया जाता है।
  • फोनोग्राफ – यह ध्वनि लेखन के काम में आने वाला यंत्र है।
  • फोटो टेलीग्राफ – ये एक स्थान से दूसरे स्थान पर फोटो भेजने वाला यंत्र है।
  • साइटोट्रोन – यह कृत्रिम उपकरण तैयार करने के काम आता है।
  • रडार – यानों की संसूचना, गति व स्थिति जानने के लिए प्रयोग किया जाने वाला यंत्र।
  • रेनगेज – वर्षा को नापने के काम आने वाला यंत्र।
  • रेडियोमीटर – इसका उपयोग विकिरण की माप करने के लिए किया जाता है।
  • रेडियो टेलिस्कोप – इसके माध्यम से दूर स्थित घटना को बेतार प्रणाली से दूसरे स्थान पर देखा जा सकता है।
  • रिफरेक्ट्रोमीटर – इसके माध्यम से पारदर्शी माध्यमों का अपवर्तनांक नापा जाता है।
  • सिस्मोग्राफ – भूकंप का पता लगाने वाला यंत्र।
  • सेफ्टी लैंप – इस लैंप का प्रयोग खानों में किया जाता है। इसकी सहायता से खानों में होने वाले विस्फोट को बचाया जा सकता है।
  • सेक्सटेंट – यह किसी वस्तु (मीनार इत्यादि) की उंचाई नापने के काम आता है।
  • स्ट्रोवोस्कोप -इसकी सहायता से आवर्त गति से घूमने वाली वास्तु की चाल नापी जाती है।
  • स्पीडोमीटर – यह बस, कार आदि की गति को प्रदर्शित करने के लिए लगा होता है।
  • सबमरीन – यह पानी के अंदर चलने वाला जहाज होता है।
  • स्फेरोमीटर – इसके द्वारा गोलीय जल की वक्रता की त्रिज्या मापी जाती है।
  • बिस्कोमीटर – इसके द्वारा द्रवों की श्यानता मापी जाती है।
  • टेली फोटोग्राफी – इसके द्वारा गतिशील वस्तुओं का चित्र दूसरे स्थान पर प्रदर्शित किया जा सकता है।
  • टेलीप्रिंटर – इसकी सहायता से स्वतः ही समाचार टाइप होते हैं।
  • टेलेक्स – इसके माध्यम से दो स्थानों के बीच समाचारों का सीधा आदान-प्रदान होता है।
  • टेलिस्कोप – इसकी सहायता से दूर की वस्तुओं को स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है।
  • थर्मोस्टेट – इसकी सहायता से किसी वस्तु का ताप एक निश्चित मात्रा तक स्थिर बनाये रखा जा सकता है।
  • थियोडोलाइट – इसके द्वारा अनुप्रस्थ व लंबवत कोणों की माप ज्ञात की जाती है।
  • एक्टिओमीटर – इसके माध्यम से सूर्य किरणों की तीव्रता का मापन किया जाता है।
  • टैकोमीटर – मोटर नाव तथा वायु यानों की गति को मापने का यंत्र।
इसे भी पढ़ें...  कार्डेटा संघ के प्रमुख वर्ग (Phylum Chordata Classes)

WhatsApp पर सुगम ज्ञान से जुड़ें

सुगम ज्ञान से कोई प्रश्न पूछने या सुझाव देने के लिए हमारे मोबाइल नम्बर 8410242335 पर WhatsApp करेें और हमारे सामान्य ज्ञान/समसामयिकी WhatsApp Group से जुड़ें, धन्यवाद।

चर्चा
(अब तक देखा गया कुल 87 बार, 1 बार आज देखा गया)
कृपया पोस्ट शेयर करें...
Close Menu
Inline
Inline