स्वागतम्
कृपया पोस्ट शेयर करें...

विलोम या विपरीतार्थक शब्द – ऐसे शब्द जो अपने सामने वाले शब्द के सर्वदा विपरीत अर्थ प्रकट करते हैं। ध्यान रखने वाली बात यह है कि संज्ञा शब्द का विलोम संज्ञा और विशेषण का विलोम विशेषण होता है।

विलोम शब्द या विपरीतार्थक शब्द

शब्द विलोम शब्द विलोम
वरिष्ठ कनिष्ठ प्रदान आदान
सौभाग्य दुर्भाग्य आगामी गत
गहरा उथला कृतज्ञ कृतघ्न
श्वेत श्याम आय व्यय
निंदा प्रशंसा अपमान सम्मान
मानव दानव सदाचारी दुराचारी
अंत आदि अथ इति
उच्च निम्न अनिवार्य ऐच्छिक
प्रेम घृणा अनुज अग्रज
शांत उग्र अपव्यय मितव्यय
अनुरक्ति विरक्ति आर्द्र शुष्क
आदर अनादर आर्य अनार्य
आरोही अवरोही परलोक इहलोक
उत्कर्ष अपकर्ष उन्नति अवनति
उदय अस्त उपकार अपकार
उत्कृष्ट निकृष्ट पुरस्कार तिरस्कार
प्राचीन अर्वाचीन देव दानव
दुर्लभ सुलभ तटस्थ पक्षधर
ठोस तरल जंगली पालतू
जीवनमरण पराजय जय
जड़ चेतन स्थावरजंगम
निश्छल छली स्थिर चंचल
घना छितरा नागरिक ग्रामीण
उत्कर्ष अपकर्ष परलोक इहलोक
इच्छा अनिच्छा आलसी परिश्रमी
आकाश पाताल गुप्त प्रकट
आगमन गमन खरा खोटा
प्राकृतिक कृत्रिम कठोर कोमल/मृदु
कीर्ति अपकीर्ति एक अनेक
वक्र ऋजु विनीत उद्धत
आधार निराधार आज्ञा अवज्ञा
आकर निराकार स्फूर्ति आलस्य
अभद्र भद्र भूतपूर्व अभूतपूर्व
आलोक अंधकार निरापद आपद
भय अभय वरदान अभिशाप
आकर्षण विकर्षण अनिभिज्ञ अभिज्ञ
पुरातन नूतन आविर्भाव तिरोभाव
शाश्वत क्षणिक तेजस्वी निस्तेज
राजतन्त्र गणतंत्र सभ्य बर्बर
काल्पनिक यथार्थ अंश पूर्ण
अति अलप युद्ध शांति
स्वस्थ रुग्ण राग द्वेष
राजा रंक / प्रजा / रानी विधि निषेध
विधवा सधवा घमण्ड विनम्रता
वसंत पतझड़ विरोध समर्थन
दूषित विशुद्ध सामान्य विशिष्ट
संक्षिप्त विस्तृत दुर्जन सूजन
निरक्षर साक्षर सक्रियनिष्क्रिय
सरस नीरस स्वाधीन पराधीन
निंदा स्तुति वक्त श्रोता
श्रम विश्राम अक्षम सक्षम
विरल सघन बाधक सहायक
उद्घाटन समापन शोक हर्ष
ज्ञान अज्ञान क्षुद्र विराट
गौरव लाघव विश्लेषण संश्लेषण
सात्विक तमस सम्पत्ति विपत्ति
मौन मुखर गरिमा लघिमा
परचून थोक सृष्टि प्रलय
निषिद्धि विहित अतिथि आतिथेय
अवशेष निशेष रहित सहित
दक्षिण वाम म्लान प्रफुल्ल
विरत निरत सशक्त अशक्त
हलाहल सुधा वाच्य श्रव्य
उत्पत्यका अधिपत्यका सफ़ेद स्याह
स्वामी भृत्य अनायास सायास
स्थूल तन्वी आदर्श ययार्थ
लक्षण विलक्षण तीक्ष्ण कुष्ठित
भृकुटि त्रिकुटी तलवार ढाल
प्रवृत्ति निवृत्ति भूषण दूषण
संघटन विघटन अमित परिमित
सुन्दर कुरूप आश्रित निराश्रित
आमिष निरामिष उत्थान पतन
अमृत विष उपचार अपचार
आतुर अनातुर इष्ट अनिष्ट
यज्ञविज्ञ प्रवर अवर
अतल वितल अमर मर्त्य
अनुरक्त विरक्त भू अम्बर
पृथ्वीअवनि पूर्णतः अंशतः
घात प्रतिघात लिखित मौखिक
प्रत्यक्ष परोक्ष प्रसन्नता खेद
दाता याचक आहार निराहार
उत्तम अधम उत्कृष्ट निकृष्ट
अर्थ अनर्थ उर्वर ऊसर
प्रदान आदान उत्थान पतन
अनाथ सनाथ उन्नत अवनत
अवलंब निरालम्ब अपेक्षा उपेक्षा
मसृणरूक्षअनाथ सनाथ
उन्नति अवनाति अल्पज्ञ बहुज्ञ
उत्तम अधम इति अथ
अवनि अम्बर अनुराग विराग
अनिष्ट इष्ट उदार कृपण
अनुलोम प्रतिलोम अनुरक्ति विरक्ति
विकीर्ण आकीर्ण आद्य अन्त्य
बाह्य आभ्यंतर ईद मुहर्रम
उपकार अपकार उत्कर्ष अपकर्ष
उद्दात्त अनुद्दात्त विनीत उद्धत
एकतंत्र बहुतंत्र ऐतिहासिक अनैतिहासिक
उपरि अधः उपभुक्त अनुपभुक्त
सौम्य उग्र एकत्र विकीर्ण
इसे भी पढ़ें...  हिंदी में सर्वप्रथम, कुछ रोचक जानकारी

चर्चा
(अब तक देखा गया कुल 152 बार, 1 बार आज देखा गया)
कृपया पोस्ट शेयर करें...
Close Menu
Inline
Inline