स्वागतम्
भारत की प्रमुख बहु-उद्देशीय नदी घाटी परियोजनाएं
कृपया पोस्ट शेयर करें...

नदियों के जल को मानव-हित में प्रयोग करने के लिए विभिन्न परियोजनाएं विकसित की गयी हैं| नदियों की घाटियों पर बड़े-बड़े बांध बनाकर अनेक सुविधायें जैसे ऊर्जा, सिंचाई एवं पर्यटन स्थल प्राप्त किये जाते हैं, इसीलिए इन परियोजनाओं को बहु-उद्देश्यीय नदी घाटी परियोजना कहा जाता है| इन परियोजनाओं का मुख्य उद्देश्य किसी नदी घाटी के अंतर्गत आने वाले जल एवं थल का पूर्ण रूप से मानव-हित में प्रयोग करना होता है| भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने बहु-उद्देशीय नदी घाटी परियोजनाओं को ‘आधुनिक भारत का मंदिर’ कहा था|

भारत की प्रमुख बहु-उद्देशीय नदी घाटी परियोजनाएं ( Important Multipurpose River Valley Projects in India )-

परियोजनानदीसम्बन्धित/लाभान्वित राज्य/देशटिप्पणी
सरदार सरोवर परियोजनानर्मदागुजरात, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश एवं राजस्थानइसका निर्माण गुजरात राज्य में नर्मदा नदी पर नवगांव के पास 138.68 मी. ऊँचे बांध से किया गया है | इससे 1450 मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा |
भाखड़ा-नांगल परियोजनासतलुजपंजाब, हरियाणा, राजस्थान एवं हिमाचल प्रदेशयह परियोजना पंजाब, हरियाणा एवं राजस्थान राज्यों का संयुक्त उपक्रम है |
शिवसमुद्रमकावेरीकर्नाटक, तमिलनाडु, केरल एवं पांडिचेरीकर्नाटक में कावेरी नदी पर स्थित शिवसमुद्रम में 1902 में भारत का दूसरा जल विद्युत् उत्पादन संयन्त्र लगाया गया था |
नागार्जुन सागरकृष्णातेलन्गाना एवं आंध्रप्रदेश
हीराकुण्डमहानदीओड़िसायह सम्बलपुर से 15 किमी. दूर, लगभग 61 मी. ( 200 फीट ) ऊँचा एवं 4801 मी. ( मुख्य बांध की लम्बाई ) लम्बा विश्व का सबसे लम्बा बांध है | इसकी कुल लम्बाई 25.8 किमी. है |
चम्बल नदी घाटीचम्बलमध्य प्रदेश एवं राजस्थानइस परियोजना के अंतर्गत 3 बांध - गाँधी सागर बांध ( मध्य प्रदेश ), राणा प्रताप सागर बांध एवं जवाहर सागर बांध ( राजस्थान ) निर्मित किये गये है |
टिहरी बांधभागीरथीउत्तराखंडइसका निर्माण भागीरथी नदी पर भागीरथी और भिलांगना नदी के संगम से थोड़ा आगे उत्तराखंड के टिहरी जिले में किया गया है |
मयूराक्षीमयूराक्षीपश्चिम बंगाल
फरक्कागंगापश्चिम बंगाल
काकरापारताप्तीगुजरात
उकाईताप्तीगुजरात
रिहंदरिहंदउत्तर प्रदेश
इडुक्की पेरियारकेरल
माताटीलाबेतवामध्य प्रदेश
जायकवाड़ी गोदावरीमहाराष्ट्र
नाथपा-झाकरी सतलुज हिमाचल प्रदेश
मचकुंड मचकुंडआंध्रप्रदेश एवं ओड़िसा
पोचम्पादगोदावरीकर्नाटक
तुलबुलझेलमजम्मु एवं कश्मीर
दुलहस्तीचिनाबजम्मु एवं कश्मीर
कोयनाकोयनामहाराष्ट्र
सलालचिनाबजम्मु एवं कश्मीर
टनकपुरमहाकाली नदीभारत-नेपाल सीमा ( उत्तर प्रदेश )
साबरमतीसाबरमतीगुजरात
शारदाशारदाउत्तर प्रदेश
बाण सागरसोनमध्य प्रदेश
मैटूर कावेरीतमिलनाडु
सबरिगिरीपम्बा-काकीकेरल
श्री सैलमकृष्णाकर्नाटक
चुखा / चुक्कावांग्चु / रायडकभूटान एवं भारत1974 में इसका निर्माण कार्य भारत सरकार की पूर्ण वित्तपोषित इकाई के रूप में प्रारंभ किया गया था, जिसमें 60% अनुदान और 40% ऋण के रूप में था| ऋण को 5% बार्षिक की दर पर 15 वर्षों में अदा करना था| इस परियोजना को भूटानी प्रबंधन के हाथों में 1991 में सौंप दिया गया|
काल्पोंगकाल्पोंगअंडमान एवं निकोबार
घाट प्रभाघाट प्रभाकर्नाटक
बगलिहारचिनाबजम्मु एवं कश्मीर
रानी लक्ष्मीबाई बांधबेतवामध्य प्रदेश
सिद्रापोंगपश्चिम बंगालसिद्रापोंग जल विद्युत् परियोजना ( Sidrapong Hydroelectric Power Project ) भारत का प्रथम जल विद्युत् संयंत्र है| इसकी स्थापना 1897 में दार्जिलिंग के निकट सिद्रापोंग में हुई थी|
इसे भी पढ़ें...  उत्तरी व दक्षिण अमेरिकी, कैरीबियन सागर, ओसनियाई प्रमुख देश

क्या आपने इस पोस्ट को पूरा पढ़ लिया ? यदि हाँ , तो आईये पता करते है कि कितना याद हुआ ? नीचे दिए क्विज को हल कीजिये ।

बहु-उद्देश्यीय नदी घाटी परियोजनाएं पर प्रश्नोत्तरी

WhatsApp पर सुगम ज्ञान से जुड़ें

सुगम ज्ञान से कोई प्रश्न पूछने या सुझाव देने के लिए हमारे मोबाइल नम्बर 8410242335 पर WhatsApp करेें और हमारे सामान्य ज्ञान/समसामयिकी WhatsApp Group से जुड़ें, धन्यवाद।

इसे भी पढ़ें...  विश्व की प्रमुख जलसन्धियाँ एवं उनकी स्थितियाँ
चर्चा
(अब तक देखा गया कुल 5,548 बार, 1 बार आज देखा गया)
कृपया पोस्ट शेयर करें...
Close Menu