स्वागतम्
कृपया पोस्ट शेयर करें...

भारतीय संविधान एक परिचय – संविधान निर्माण हेतु एक संविधान सभा का गठन किया जाना था। संविधान सभा का गठन केबिनेट मिशन योजना के तहत नवंबर 1946 में किया गया। कैबिनेट मिशन मार्च 1946 में दिल्ली पहुंचा। जुलाई 1946 में संविधान सभा के लिए चुनाव हुए।

  • 9 दिसंबर 1946 को संविधान सभा की पहली बैठक सबसे वरिष्ठ नेता सच्चिदानंद सिन्हा की अस्थायी अध्यक्षता में हुयी।
  • 11 दिसंबर 1946 को डॉ राजेंद्र प्रसाद को संविधान सभा का स्थाई अध्यक्ष चुना गया। साथ ही H C मुखर्जी की उपाध्यक्ष और B N राव को संवैधानिक सलाहकार के रूप में चुना गया।
  • 13 दिसंबर 1946 को जवाहर लाल नेहरू द्वारा संविधान की आधारशिला के रूप में उद्देश्य प्रस्ताव प्रस्तावित किया गया।
  • 22 जनवरी 1947 को सर्वसम्मति से उद्देश्य प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया गया।
  • 26 नवंबर 1949 को संविधान को अंगीकृत किया गया। 299 सदस्यों में से 284 सदस्यों ने इस पर हस्ताक्षर किये।
  • 26 जनवरी 1950 को संविधान को पूर्ण रूप से लागू किया गया और गणतंत्र की स्थापना की गयी।

नोट :- संविधान सभा में निर्णय बहुमत के आधार पर नहीं बल्कि सर्वसम्मति से लिए जाते थे।

संविधान के भाग –

मूल संविधान में कुल – 22 भाग थे। परन्तु विभिन्न संशोधनों के बाद अब इसमें कुल – 25 भाग हो गए हैं।

इसे भी पढ़ें...  मूल कर्तव्य एक परिचय

भाग 1 – संघ और उसका राज्य क्षेत्र

भाग 2 – नागरिकता

भाग 3 – मूल अधिकार

भाग 4 – राज्य की नीति के निदेशक तत्व

भाग 4 A – मूल कर्तव्य

भाग 5 – संघ

भाग 6 – राज्य

भाग 7 – ( 7 वें संविधान संशोधन 1956 द्वारा निरसित )

भाग 8 – संघ राज्य क्षेत्र

भाग 9 – पंचायत

भाग 9 A – नगरपालिकाएं

भाग 10 – अनुसूचित जाति और जनजाति क्षेत्र

भाग 11 – संघ और राज्यों के बीच संबंध

भाग 12 – वित्त, संपत्ति, संविदाएं और वाद

भाग 13 – भारत के राज्य क्षेत्र के भीतर व्यापर, वाणिज्य और समागम

भाग 14 – संघ और राज्यों के अधीन शक्तियां

भाग 14 A – अधिकरण

भाग 15 – निर्वाचन

भाग 16 – कुछ वर्गों के लिए विशेष उपबंध संबंध

भाग 17 – राजभाषा

भाग 18 – आपात उपबंध

भाग 19 – प्रकीर्ण

भाग 20 – संविधान संशोधन

भाग 21 – अस्थाई संक्रमणकालीन और विशेष उपबंध

भाग 22 – संक्षिप्त नाम, प्रारम्भ, हिंदी में प्राधिकरण पाठ और निरसन

संविधान की अनुसूचियाँ –

मूल संविधान में कुल 8 अनुसूचियाँ थीं। वर्तमान संविधान में कुल 12 अनुसूचियाँ हैं।

पहली अनुसूची – इस सूचि में भारतीय घटक के राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों का उल्लेख है।

दूसरी अनुसूची – इस अनुसूची में देश के विभिन्न उच्च पदाधिकारियों को प्राप्त होने वाले वेतन, भत्ते और पेंशन इत्यादि उल्लिखित हैं ।

इसे भी पढ़ें...  राजनीति विज्ञान/नागरिक शास्त्र से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर

तीसरी अनुसूची – इस अनुसूची में देश के विभिन्न उच्च पदाधिकारियों को दिलाई जाने वाली शपथ का उल्लेख किया गया है।

चौथी अनुसूची – इसमें देश के राज्य व केंद्र शासित प्रदेशों का राज्यसभा में प्रतिनिधित्व का उल्लेख किया गया है।

पाँचवी अनुसूची – अनुसूचित क्षेत्रों और जनजाति के प्रशासन और नियंत्रण का उल्लेख किया गया है।

छठी अनुसूची – इसमें असम, मेघालय, मिजोरम और त्रिपुरा के जनजाति क्षेत्रों के प्रशासन के बारे में प्रबंध का उल्लेख है।

सातवीं अनुसूची – इसमें केंद्र व राज्य के बीच शक्तियों के विभाजन हेतु तीन सूचियों ( संघ सूची, राज्य सूची और समवर्ती ) का उल्लेख किया गया है।

आठवीं अनुसूची – इस अनुसूची में मूल रूप से 14 भाषाओं का उल्लेख किया गया था।

नौवीं अनुसूची – इस अनुसूची में राज्य द्वारा संपत्ति के अधिग्रहण की विधियों का उल्लेख किया गया है। इस अनुसूची में सम्मिलित विषयों को न्यायालय में चुनौती नहीं दी जा सकती। ( इसे प्रथम संविधान संशोधन-1951 के तहत जोड़ा गया था ) ।

दसवीं अनुसूची – इसमें दल-बदल से संबंधित प्रावधानों का उल्लेख किया गया है। ( यह अनुसूची 52 वें संविधान संशोधन 1985 के तहत जोड़ी गयी थी )।

ग्यारहवीं अनुसूची – यह अनुसूची पंचायती राज व्यवस्था से संबंधित है। इसे 73 वें संविधान संशोधन-1993 के द्वारा जोड़ा गया था )।

बारहवीं अनुसूची – इसमें शहरी क्षेत्र की स्थानीय स्वशासन संस्थाओं ( नगरपालिका ) का उल्लेख किया गया है। ( इस अनुसूची को 74 वें संविधान संशोधन-1993 के तहत जोड़ा गया )।

इसे भी पढ़ें...  भारतीय संविधान के विदेशी स्त्रोत

संविधान से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर  –

  • संविधान की आत्मा किसे कहा जाता है – प्रस्तावना 
  • संविधान का रक्षक किसे बनाया गया – उच्चतम न्यायालय
  • संविधान का निर्माण किसके द्वारा किया गया – संविधान सभा 
  • संविधान सभा का गठन किस योजना के तहत किया गया – कैबिनेट मिशन योजना 
  • संविधान की प्रारूप समिति का अध्यक्ष कौन था – भीमराव अंबेडकर 
  • भारत के मूल संविधान में कितने भाग थे – 22 
  • भारतीय संविधान में कितने भाग हैं – 25
  • भारतीय संविधान में कुल कितने अनुच्छेद हैं – 395 अनुच्छेद
  • भारतीय संविधान में सर्वाधिक अनुच्छेद कहाँ से लिए गए हैं – 1935 के अधिनियम से 
चर्चा
(अब तक देखा गया कुल 47 बार, 1 बार आज देखा गया)
कृपया पोस्ट शेयर करें...
Close Menu
Inline
Inline