You are currently viewing दक्षेस (SAARC) के बारे में जानकारी
कृपया पोस्ट शेयर करें...

दक्षेस (SAARC) के बारे में जानकारी – दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन दक्षेस या South Asian Association for Regional Cooperation ( SAARC ) की स्थापना 7-8 दिसंबर 1985 ईo को ढाका शिखर सम्मेलन के परिणामस्वरूप हुयी। इसका कार्यालय काठमांडू में स्थित है। इस संगठन का उद्देश्य दक्षिण एशिया के देशों में क्षेत्रीय सहयोग का विस्तार करना है। परंतु सदस्य राष्ट्रों के आपसी मतभेदों के कारण इसके उद्देश्य प्राप्ति में बढ़ाएं आती हैं। प्रति वर्ष सदस्य देशों के राष्ट्राध्यक्षों के बीच शिखर सम्मेलन होने की व्यवस्था है। परन्तु कुछ कारणों से इन सम्मेलनों में बिलम्ब हो जाता है। 

सार्क के सदस्य देश –

इस संगठन के सदस्य भारत के पड़ोसी देश यथा भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, श्रीलंका, मालदीव, भूटान, अफगानिस्तान हैं। इन सभी देशों में भारत जनसँख्या व क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा है। मूल रूप से सात देश ही इस संगठन के सदस्य थे। अप्रैल 2007 में नई दिल्ली में  सम्पन्न सार्क के 14वें सम्मलेन में अफगानिस्तान को इस संगठन के आठवें सदस्य के रूप में औपचारिक रूप से शामिल किया गया।

दक्षेस की आधिकारिक भाषा –

English

लक्ष्य प्राप्ति –

दक्षेस राष्ट्रों ने अपने लक्ष्यों की प्राप्ति हेतु पहले 2012 तक की समय सीमा तय की थी। परन्तु इस समय तक यह संगठन अपने लक्ष्यों की प्राप्ति करने में असफल रहा। अतः 5 अप्रैल 2013 को काठमांडू में हुयी दक्षेस की मंत्री स्तरीय बैठक में इसके लक्ष्य की प्राप्ति की समय सीमा बढाकर 2015 कर दी गयी थी।

इसे भी पढ़ें...  भारत | नवीनतम जानकारी कौन, क्या है ?

आपसी सहयोग के क्षेत्र –

  • मानव संसाधन विकास और पर्यटन
  • कृषि व ग्रामीण विकास
  • पर्यावरण, प्राकृतिक आपदाएं और जैव प्रौद्योगिकी
  • सामाजिक मामले
  • सूचना व गरीबी उन्मूलन
  • ऊर्जा, परिवहन, विज्ञान व तकनीकी
  • शिक्षा, सुरक्षा व संस्कृति
  • अन्य

दक्षेस शिखर सम्मलेन –

दिसंबर 1985 – ढाका (बांग्लादेश)

नवंबर 1986 – बेंगलुरु (भारत)

नवंबर 1987 – काठमांडू (नेपाल)

दिसंबर 1988 – इस्लामाबाद (पाकिस्तान)

नवंबर 1990 – माले (मालदीव)

दिसंबर 1991 – कोलम्बो (श्रीलंका)

अप्रैल 1993 – ढाका (बांग्लादेश)

मई 1995 – नई दिल्ली (भारत)

मई 1997 – माले (मालदीव)

जुलाई 1998 – कोलम्बो (श्रीलंका)

जनवरी 2002 – काठमांडू (नेपाल)

जनवरी 2004 – इस्लामाबाद (पाकिस्तान)

नवंबर 2005 – ढाका (बांग्लादेश)

अप्रैल 2007 – नई दिल्ली (भारत)

अगस्त 2008 – कोलम्बो (श्रीलंका)

अप्रैल 2010 – थिम्पू (भूटान)

नवंबर 2011 – आड़ू सिटी (मालदीव)

नवंबर 2014 – काठमांडू (नेपाल)

नवंबर 2016 – इस्लामाबाद (पाकिस्तान)

दक्षेस विश्व विद्यालय –

सार्क देशों के मध्य हुयी एक  सहमति के तहत इन देशों की एक साझा यूनिवर्सिटी की स्थापना की गयी। दक्षिण एशियाई विश्वविद्यालय के नाम से इस विश्वविद्यालय की स्थापना 2010 में नई दिल्ली में की गयी। इस विश्वविद्यालय का संचालन अकबर भवन से किया जा रहा है। इस विश्व विद्यालय के पहले सत्र की शुरुवात अगस्त 2010 में दो स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों डेवलपमेंट इकोनॉमिक्स और कम्प्यूटर एप्लिकेशन के साथ की गयी। इस सत्र में 50 विद्यार्थियों को प्रवेश दिया गया। इसके अगले साल दूसरे सत्र (2011-12) में 170 विद्यार्थियों को प्रवेश दिया गया।

सुगम ज्ञान टीम का निवेदन

प्रिय पाठको,
आप सभी को सुगम ज्ञान टीम का प्रयास पसंद आ रहा है। अपने Comments के माध्यम से आप सभी ने इसकी पुष्टि भी की है। इससे हमें बहुत ख़ुशी महसूस हो रही है। हमें आपकी सहायता की आवश्यकता है। हमारा सुगम ज्ञान नाम से YouTube Channel भी है। आप हमारे चैनल पर समसामयिकी (Current Affairs) एवं अन्य विषयों पर वीडियो देख सकते हैं। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमारे चैनल को SUBSCRIBE कर लें। और कृपया, नीचे दिए वीडियो को पूरा अंत तक देखें और लाइक करते हुए शेयर कर दीजिये। आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

सुगम ज्ञान से जुड़े रहने के लिए

Add to Home Screen

चर्चा
(अब तक देखा गया कुल 4,891 बार, 1 बार आज देखा गया)
कृपया पोस्ट शेयर करें...