स्वागतम्
कृपया पोस्ट शेयर करें...

जज़िया ( Jizya or Jizyah ) एक प्रकार का धार्मिक कर है। इसे मुस्लिम राज्य में रहने वाली गैर मुस्लिम जनता से बसूल किया जाता है। क्योंकि इस्लामिक राज्य में सिर्फ मुस्लिमों को ही रहने की इजाजत थी यदि इस धर्म के सिवाय कोई और रहेगा तो उसे धार्मिक कर देना होगा। इसे देने के बाद गैर मुस्लिम लोग इस्लामिक राज्य में अपने धर्म का पालन कर सकते थे। 

ऐसा नहीं है कि मुस्लिमों ने ही गैर मुस्लिमों से इस प्रकार का धार्मिक कर बसूला। गहड़वालों ने भी अपने राज्य में तुरुष्कदण्ड नामक एक कर लगाया। जोकि उनके राज्य में रहने वाले मुस्लिमों पर लगाया गया था।

भारत में इसका प्रथम साक्ष्य मुहम्मद बिन कासिम के आक्रमण के बाद देखने को मिलता है। सर्वप्रथम मुहम्मद बिन कासिम ने ही भारत में सिंध प्रांत के देवल में जजिया कर लगाया। इसके बाद जजिया कर लगाने वाला दिल्ली सल्तनत का प्रथम सुल्तान फिरोज तुगलक था। इसने जजिया को खराज (भूराजस्व) से निकालकर पृथक कर के रूप में बसूला। इससे पूर्व ब्राह्मणों को इस कर से मुक्त रखा गया था। यह पहला सुल्तान था जिसने ब्राह्मणों पर भी जजिया कर लगा दिया। फिरोज तुगलक के ऐसा करने के विरोध में दिल्ली के ब्राह्मणों ने भूख हड़ताल कर दी। फिर भी फिरोज तुगलक तुगलक ने इसे समाप्त करने की ओर कोई ध्यान नहीं दिया। अंत में दिल्ली की जनता ने ब्राह्मणों के बदले स्वयं जजिया देने का निर्णय लिया। इसके बाद लोदी वंश के शासक सिकंदर लोदी ने जज़िया कर लगाया।

इसे भी पढ़ें...  विदेशी आक्रमण और विदेशी शासक व आक्रमणकारी

सल्तनत के बाहर के राज्यों में भी जजिया का प्रचलन हो गया था। कश्मीर में सर्वप्रथम जजिया कर सिकंदरशाह द्वारा लगाया गया। यह एक धर्मांध शासक था और चार किये। इसके बाद इसका पुत्र जैनुल आबदीन (1420-70 ईo) शासक बना और पिता द्वारा लगाए गए जजिया को समाप्त कर दिया। जजिया कर को समाप्त करने वाला यह पहला शासक था। यह अत्यंत उदार शासक था। इसकी उदारता के लिए ही इसे कश्मीर का अकबर कहा गया। गुजरात में जजिया सर्वप्रथम अहमदशाह (1411-42 ईo) के समय लगाया गया।

शेरशाह के समय जजिया को नगर-कर की संज्ञा दी गयी। जजिया कर को समाप्त करने वाला पहला मुग़ल शासक अकबर था। अकबर ने 1564 ईo में जज़िया कर समाप्त किया, 1575 ईo में पुनः लगा दिया। इसके बाद 1579-80 ईo में पुनः समाप्त कर दिया। औरंगजेब ने 1679 ईo में जजिया कर लगाया। 1712 ईo में जहाँदारशाह ने अपने वजीर जुल्फिकार खां व असद खां के कहने पर विधिवत रूप से समाप्त कर दिया। इसके बाद फर्रूखशियर ने 1713 ईo में जज़िया कर को हटा दिया और 1717 ईo में इसने जजिया पुनः लगा दिया। अंत में 1720 ईo में मुहम्मद रंगीला ने जयसिंह के अनुरोध पर जजिया कर को सदा के लिए समाप्त कर दिया।

WhatsApp पर सुगम ज्ञान से जुड़ें

चर्चा
(अब तक देखा गया कुल 2,148 बार, 1 बार आज देखा गया)
कृपया पोस्ट शेयर करें...
Close Menu
Inline
Inline