कर्नाटक : सुगम सामान्य ज्ञान
कृपया पोस्ट शेयर करें...

कर्नाटक : सुगम सामान्य ज्ञान ( Karnataka  at a Glance ), भारत के 29 राज्यों में से एक है तथा यहाँ का सबसे बड़ा शहर ‘बेंगलुरु’ कर्नाटक की राजधानी है। यह भारत के दक्षिण-पश्चिम में स्थित है। इसे ‘कर्णाटक’ भी कहा जाता है। कर्णाटक को पहले ‘स्टेट ऑफ़ मैसूर’ कहा जाता था, सन् 1973 में इसका नाम बदलकर कर्नाटक किया गया। राज्य के नामकरण के समय बहुत सुझाव आये थे जिनमें से कर्नाटक को चुना गया जोकि दो शब्दों ‘कारु’ और ‘नारु’ से मिलकर बना है जिनका अर्थ होता है ‘ उन्नत भूमि’। इसकी सीमा पश्चिम में अरब सागर व लक्षद्वीप समुद्र से, उत्तर-पश्चिम में गोवा से, उत्तर में महाराष्ट्र से, पूर्व में तेलंगाना और आन्ध्र प्रदेश से, दक्षिण-पूर्व में तमिलनाडु और दक्षिण-पश्चिम में केरल से लगती है। राज्य का मुख्य धर्म हिन्दू धर्म है। इसके आलावा यहाँ अन्य धर्मों इस्लाम, ईसाई, जैन और तिब्बती बौद्ध धर्म के मानने वाले भी रहते हैं।

कर्नाटक

कर्णाटक एक नजर में  ( Karnataka At a Glance )

राज्य का नाम कर्णाटक
स्थापना 1 नवम्बर 1956
राजधानी बेंगलुरु ( बंगलौर )
उच्च न्यायालय कर्नाटक उच्च न्यायालय, बेंगलुरु
क्षेत्रफल 1,91,791 वर्ग किमी. ( देश में 7 वां स्थान )
कुल जिले 30
लोकसभा सदस्य 28
राज्यसभा सदस्य 12
विधानसभा सदस्य 224
विधान परिषद सदस्य75
राजकीय पुष्प कमल
राजकीय वृक्ष चन्दन
राजकीय पशु हाथी
सर्वोच्च शिखर मुलयानगरी पर्वत (1929 मी.) {चिक्कमगलुर}
मुख्य नदियाँ कृष्णा, कावेरी, तुंगभद्रा, अर्कावती, शरावती, मालाप्रभा, हेमावती
मुख्य झीलें उल्सूर, पम्पा सरोवर
मुख्य त्यौहार दसरा, उगाडी
राजकीय पक्षी नीलकंठ (कोरेशियस बेन्गालेन्सिस)
जनसंख्या 6,11,30,704 ( देश में 9 वां स्थान, जनगणना 2011 के अनुसार )
जनसंख्या घनत्व 320 व्यक्ति प्रति वर्ग किमी. ( जनगणना 2011 के अनुसार )
लिंगानुपात 968 महिलायें प्रति 1000 पुरुष
साक्षरता 75.36 % { जनगणना 2011 के अनुसार }
भाषा कन्नड़ ( राजभाषा ), संस्कृत, कोंकणी, हिन्दी, कोडव टक, तुल्लु, मह्ल, उर्दू
प्रमुख फसलेंचावल, गन्ना, ज्वार, रागी, इलाइची, काजू, अंगूर, चाय, कॉफ़ी, कपास, मूँगफली
राष्ट्रीय उद्यान बांदीपुर वन्यजीव अभयारण्य, नागरहोल राष्ट्रीय उद्यान, मुदुमलई राष्ट्रीय उद्यान
वनाच्छादित क्षेत्र20 %
ISO 3166 कोड IN-KA
टाइम-ज़ोन IST ( UTC 05:30 )
वेबसाइट www.karnataka.gov.in
इसे भी पढ़ें...  भारतीय संविधान में उल्लिखित पाँच न्यायिक रिट
चर्चा
(अब तक देखा गया कुल 277 बार, 1 बार आज देखा गया)
कृपया पोस्ट शेयर करें...
Close Menu
Inline
Inline