स्वागतम्
मुहावरे और उनके अर्थ
कृपया पोस्ट शेयर करें...

मुहावरे और उनके अर्थ – किसी विशेष अर्थ को प्रकट करने वाले वाक्यांश को मुहावरा कहते हैं। शाब्दिक रूप से मुहावरा शब्द का अर्थ अभ्यास होता है। मुहावरों का प्रयोग भाषा को सुन्दर, प्रभावशाली तथा संक्षिप्त व सरल बनाने के लिए जाता है। इस लेख में प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण मुहावरों को हिंदी वर्णमाला के क्रम में दिया गया है।

मुहावरे और उनके अर्थ

  • अंक भरना – स्नेह से लिपटा लेना 
  • अंग टूटना – थकान से दर्द होना
  • अंगार बनना – लाल होना या क्रुद्ध होना
  • अंगारों पर पैर रखना – जानबूझकर हानिकारक काम करना
  • अंगारों पर लोटना – दुःख सहना
  • अंगूठा दिखाना – वक्त पर घोखा देना
  • अंचरा पसारना – याचना करना या माँगना
  • अण्टी मारना – चाल चलना
  • अण्ड-वण्ड कहना – भला बुरा कहना
  • अंधाधुंध लुटाना – बिना विचारे खर्च करना
  • अँधा बनना – आगे पीछे कुछ न देखना
  • अँधा बनाना – धोखा देना
  • अँधा होना – विवेक भ्रष्ट हो जाना
  • अंधे की लकड़ी – एक ही सहारा होना
  • अंधेर खाता – अन्याय
  • अंधेरनगरी – ऐसी जगह जहाँ धांधली का बोलबाला हो
  • अक्ल पर पत्थर पड़ना – बुद्धि भ्रष्ट होना
  • अक्ल की दुम – अपने को बड़ा होशियार समझने वाला
  • अगले ज़माने का आदमी – सीधा सादा या ईमानदार
  • अड़ियल टट्टू – अटक अटक कर या मुँह जोहकर काम करने वाला
  • अढ़ाई दिन की हुकूमत – कुछ दिनों की शानोशौकत
  • अन्न जल उठना – रहने का संयोग न होना या मर जाना
  • अन्न लगना – स्वस्थ्य रहना
  • अपना उल्लू सीधा करना – अपना काम निकालना
  • अपना किया पाना – कर्म  भोगना
  • अपना सा मुँह लेकर रह जाना – शर्मिंदा होना
  • अपनी खिचड़ी अलग पकाना – अलग रहना या स्वार्थी होना
  • अपने पाँव आप कुल्हाड़ी मारना – संकट मोल लेना
  • अपने पैरों खड़ा होना – स्वावलम्बी होना
  • अपने मुँह मिया मिट्ठू होना – अपनी तारीफ खुद करना
  • अब-तब करना – बहाना करना
  • अब-तब होना – परेशां करना या मरने के करीब होना
  • आँच न आने देना – जरा भी कष्ट न होने देना
  • आठ-आठ आँसू रोना – बुरी तरह पछताना
  • आसान डोलना – विचलित या लुब्ध होना
  • आस्तीन का साँप – कपटी मित्र
  • आसमान टूट पड़ना – बहुत बड़ा संकट पड़ना
  • आँखें खुलना – होश आना या सावधान होना
  • आँखें चार होना – आमने सामने होना
  • आँखें मूंदना – मर जाना
  • आँखों में खून उतरना – अधिक क्रोध करना
  • आँखों में गड़ना –  की उत्कष्ट लालसा
  • आँखें फेर लेना – उदासीन होना
  • आँख मारना – इशारा करना
  • आँखों में धूल झोकना – धोखा देना
  • आँखें बिछाना – प्रेम से स्वागत करना
  • आँखों का काँटा होना – शत्रु होना
  • ईंट का जबाब पत्थर से देना – किसी की दुष्टता का करारा जबाब देना
  • ईद का चाँद होना – बहुत दिनों बाद दिखाई देना
  • उगल देना – गुप्त बात प्रकट कर देना
  • उठा न रखना – कसर न छोड़ना
  • उलटी गंगा बहाना – प्रतिकूल कार्य
  • उड़ती चिड़िया पहचानना – मन की या रहस्य की बात ताड़ना
  • उन्नीस बीस होना – मामूली फर्क
  • एक आँख से देखना – बराबर मानना
  • एक लाठी से सबको हाँकना – बिना उचित अनुचित का विचार किये व्यव्हार करना
  • कल पड़ना – तसल्ली मिल जाना
  • किरकिरा होना – विघ्न आना
  • किस मर्ज की दवा – किस काम के
  • कोसों दूर भागना – बहुत अलग रहना
  • कलेजे पर सांप लोटना – कुढ़ना
  • कलेजा ठंडा होना – संतोष होना
  • कागजी घोड़े दौड़ाना – केवल लिखा पढ़ी करना
  • कुत्ते की मौत मरना – बुरी तरह मरना
  • किताबी कीड़ा होना – पढ़ने के सिवाय कुछ न करना
  • कलम तोड़ना – बढ़िया लिखना
  • काँटा निकलना – बढ़ा दूर होना
  • कागज काला करना – बिना मतलब के कुछ लिखना
  • किस खेत की मूली – शक्तिहीन या अधिकारहीन होना
  • कुँआ खोदना – हानि पहुँचाने के यत्न करना
  • खरी-खोटी सुनाना – भला बुरा कहना
  • खरी-खरी सुनाना – कटु सत्य कहना
  • खेत आना या खेत रहना – वीरगति को प्राप्त होना
  • खून पसीना एक करना – कठिन परिश्रम करना
  • खटाई में पड़ना – रुक जाना या झमेले में पड़ना
  • खाक छानना – भटकना
  • खेल खेलना – परेशान करना
  • गाल बजाना – डींग हाँकना
  • गिन गिनकर पैर रखना – सुस्त  हद से ज्यादा सावधानी वरतना
  • गुस्सा पीना – क्रोध को दबा लेना
  • गला छूटना – पिण्ड छूटना
  • गूलर का फूल होना – लापता होना
  • गड़े मुर्दे उखाड़ना – दबी हुयी बात को फिर से उठाना
  • गाँठ का पूरा – मालदार
  • गाँठ में बाँधना – खूब याद रखना या अच्छे से याद रखना
  • गुदड़ी का लाल – गरीब के घर गुणवान उत्पन्न होना
  • घोड़े बेचकर सोना – बेफिक्र होना
  • घड़ों पानी पड़ जाना – अत्यंत लज्जित होना
  • घी के दीप जलाना – अप्रत्याशित लाभ पर प्रसन्नता
  • घर बसाना – विवाह करना
  • घर का न घाट का – कहीं का न होना
  • घात लगाना – मौका ताकना
  • चल बसना – मर जाना
  • चार दिन की चाँदनी – थोड़े दिन का सुख
  • चींटी के पर निकलना या जमना – विनाश के लक्षण प्रकट होना
  • चूं न करना – सह जाना या जबाब न देना
  • चण्डूखाने की गप – बहकी/बेतुकी बातें करना
  • चादर से बाहर पाँव पसारना – आय से अधिक खर्च करना
  • चाँद पर थूकना – सम्माननीय का अनादर या व्यर्थ निंदा करना
  • चिराग तले अँधेरा – पंडित के घर घोर मूर्खता का आचरण
  • चूड़ियां पहनना – स्त्री की तरह असमर्थता व्यक्त करना
  • चेहरे पे हवाइयां उड़ना – डर जाना
  • छप्पर फाड़कर देना – बिना परिश्रम के संपन्न हो जाना
  • छक्के छूटना – बुरी तरह पराजित होना
  • जल भुनकर पागल हो जाना – क्रोध से पागल होना
  • जहर उगलना – अपमानजनक बातें कहना
  • जीती मक्खी निगलना – जानबूझकर अशोभन या अभद्र कार्य करना
  • जूते चाटना – चापलूसी करना
  • जमीन पर पैर न रखना – अधिक घमंडी होना
  • जान पर खेलना – साहसिक कार्य
  • टका सा मुँह लेकर रहना – शर्मिंदा होना
  • टट्टी की ओट शिकार खेलना – छिपे तौर पर किसी के विरुद्ध कुछ करना
  • टाट उलटना – दिवाला निकलना
  • तूती बोलना – प्रभाव जमाना
  • तोते की तरह आँखें फेरना – बेमुरव्वत होना
  • तीन तरह होना – तितर बितर होना
  • टिल का ताड़ करना – बातों को तूल देना
  • दौड़ धूप करना – बड़ी कोशिश करना
  • दो कौड़ी का आदमी – तुच्छ या अविश्वसनीय आदमी
  • दिन दूना रात चौगुनी – खूब उन्नति करना
  • दो टूक बात कहना – स्पष्ट कह देना
  • दो दिन का मेहमान – जल्द मरने वाला
  • दूध के दांत न टूटना – अनुभवहीन या अज्ञानी होना
  • धज्जियाँ उड़ाना – किसी के दोषों को चुन चुन कर गिनना
  • निन्यानबे का फेर – धन जोड़ने का बुरा लालच
  • नौ दो ग्यारह होना – चम्पत होना या भाग जाना
  • न इधर का न उधर का – कहीं का नहीं
  • नाच नचाना – तंग करना
  • पेट में चूहे कूदना – बहुत जोरो की भूख लगना
  • पट्टी पढ़ाना – बुरी राय देना
  • पहाड़ टूट पड़ना – घोर विपत्ति आ पड़ना
  • पौ बारह होना – खूब लाभ होना
  • पांचों उँगलियाँ घी में – पुरे लाभ में
  • पगड़ी रखना – इज्जत बचाना
  • फूलना-फलना – कुलवान या धनवान होना
  • बरस पड़ना – किसी पर गुस्सा निकलना
  • बाँसों उछलना – बहुत ख़ुशी
  • बाजी मारना – जीतना या आगे निकल जाना
  • बट्टा लगाना – कलंक लगाना
  • बाजार गर्म होना – काम में तेजी
  • बाँछे खिलना – अत्यधिक प्रसन्न होना
  • भाड़े का टट्टू – पैसे का गुलाम
  • भीगी बिल्ली बनना – दबना याडर से दुबकना
  • मक्खियाँ मारना – बेकार बैठे रहना
  • मैदान मारना – लड़ाई जीतना
  • मोटा असामी – मालदार
  • मुट्ठी गर्म करना – घूस देना
  • रंग जमाना – धाक जमाना
  • रंग लाना – प्रभाव उत्पन्न करना
  • रंग बदलना – परिवर्तित होना
  • रास्ता देखना – इंतजार करना
  • रोंगटे खड़े होना – चकित या भयभीत होना
  • लकीर का फ़कीर होना – पुरानी प्रथाओं पर ही चलना
  • लोहा मानना – श्रेष्ठ समझना
  • लेने के देने पड़ना – लाभ के बदले हानि होना
  • श्रीगणेश करना – शुभारम्भ करना
  • सफ़ेद झूठ – सरासर झूठ
  • सार्ड हो जाना – डरना या मरना
  • सांप-छछूंदर की हालत होना – दुविधा में पड़ना
  • सिक्का जमाना – प्रभाव जमना
  • सवा सोलह आने सही – पूरी तरह सही होना
  • हाथ मलना – पछताना
  • हवा हो जाना – भाग जाना
  • हवा का रुख देखना – समय की गति पहचान कर काम करना
  • हुक्का पानी बंद करना – बिरादरी से निकाल देना
  • हथेली पर सरसों जमाना – जल्दबाजी करना
  • हाथ धो बैठना – गवा देना हाथ पीले करना
  • हाथ पैर मारना – काफी प्रयत्न करना
  • हाथ के तोते उड़ना – स्तब्ध होना
  • हथियार डाल देना – हार मान लेना
इसे भी पढ़ें...  संधि विच्छेद ( Sandhi Viched )

WhatsApp पर सुगम ज्ञान से जुड़ें

सुगम ज्ञान से कोई प्रश्न पूछने या सुझाव देने के लिए हमारे मोबाइल नम्बर 8410242335 पर WhatsApp करेें और हमारे सामान्य ज्ञान/समसामयिकी WhatsApp Group से जुड़ें, धन्यवाद।

चर्चा
(अब तक देखा गया कुल 221 बार, 2 बार आज देखा गया)
कृपया पोस्ट शेयर करें...
Close Menu
Inline
Inline