नोवेल कोरोना वायरस COVID-19
कृपया पोस्ट शेयर करें...

नोवेल कोरोना वायरस 2019-20 (COVID-19) – एक नए प्रकार के कोरोना वायरस की शुरुआत दिसम्बर 2019 में मध्य चीन के हुवेई प्रान्त के वुहान शहर की हुआँन सीफ़ूड मार्केट से हुई। वहाँ बहुत से लोगों को बिना किसी कारण निमोनिया होने लगा। चीनी वैज्ञानिकों ने बाद में कोरोनावायरस की नयी प्रजाति की पहचान की जिसको 2019-nCoV प्रारंभिक पदनाम दिया। इस नए वायरस में लगभग 70% सार्स-कोरोनावायरस (SARS-CoV) जैसे जीनोम अनुक्रम पाए गए।शुरू में वही लोग संक्रमित पाए गए जो सीफ़ूड मार्केट में काम करते थे। बाद में ऐसे संक्रमित व्यक्ति भी सामने आने लगे जो सीफ़ूड मार्केट से सम्बन्ध नहीं रखते थे परन्तु किसी संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में आये। जिसके बाद यह साफ हुआ कि यह संक्रमण मानव से मानव में फैल रहा है। 31 दिसम्बर 2019 को इन संदिग्ध मामलों के बारे में WHO को चीन द्वारा सूचित किया गया। 1 जनवरी 2020 को मार्केट को बंद कर दिया गया और संक्रमित व्यक्तियों को अलग कर लिया गया तथा उनके संपर्क में आये व्यक्तियों को चिन्हित किया गया। इस नए कोरोना वायरस को WHO द्वारा SARS-CoV-2 (the novel coronavirus that causes coronavirus disease 2019, or COVID-19) कोविड-19 नाम दिया गया। यह वायरस कोरोनावायरस परिवार का नया सदस्य है, इससे पहले इस वायरस को नहीं देखा गया था इसीलिए इसको नोवेल कोरोना वायरस भी कहा जा रहा है। इस वायरस का एक अन्य नाम वुहान कोरोना वायरस पड़ गया है। 30 जनवरी 2020 को विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कोरोना वायरस के प्रसार को अंतर्राष्ट्रीय चिंता का सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित किया गया, इस प्रकार का आपातकाल डब्लूएचओ द्वारा 2009 के एच वन एन वन (H1N1) के बाद छठा आपातकाल है। कोविड-19 कोरोनावायरस ने पूरी दुनिया में तबाही मचा रखी है, पूरे देश के देश लॉकडाउन कर दिए गए हैं। और कहीं-कहीं कर्फ़्यू लगा दिया गया है। यह वायरस दुनिया के लगभग 170 से अधिक देशों में पहुँच चुका है। अब तक पूरे विश्व में 64 लाख से अधिक लोगों को यह संक्रमण हो चुका है।

भारत में कोरोना वायरस ( कोविड-19 ) का प्रभाव

भारत सरकार ने इस महामारी से निपटने के लिए पहले पूरे भारत में 22 मार्च 2020 को एक दिन का जनता कर्फ्यू (Lockdown) लगाया। बाद में 25 मार्च 2020 से 14 अप्रैल 2020 तक भारत के प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिनों के लिए देश भर में लॉकडाउन लागू कर दिया। इसके बाद दोबारा 3 मई 2020 तक लॉकडाउन (Lockdown 2.0) आगे बढ़ा दिया गया। फिर से कुछ छूट के साथ 4 मई 2020 से 17 मई 2020 तक लॉकडाउन (Lockdown 3.0) लागू कर दिया गया है। 18 मई 2020 से लॉकडाउन (Lockdown 4.0) और अधिक छूट के साथ शुरू किया गया। 1 जून 2020 से लॉकडाउन (Lockdown) को चरणवद्ध तरीके से हटाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गयी है। इसके बाद भी भारत में अब तक 2,20,000 से अधिक लोगों में संक्रमण हो चुका है।

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के उपाय

  1. एक निश्चित दूरी बनाये रहें (Social Distancing) – भीड़भाड़ वाली जगहों पर न जाये। अगर घर से बाहर जाएँ तो लोगों से लगभग 6 फीट की दूरी बनाये रहें।
  2. हाथों को अच्छे से धोएं – बार-बार हाथों को अच्छे से लगभग 20 सेकण्ड तक साबुन से धोएं या सैनिटाईजर का प्रयोग करें। हाथों को बिना धोये अपने आँख, नाक या मुँह को छूने से बचें।
  3. खाँसते या छींकते समय सावधानी वरतें – खाँसते या छींकते समय टिश्यू का प्रयोग करें या मुड़ी हुई कोहनी या बाजू का प्रयोग करें। प्रयोग किये हुए टिश्यू को ढक्कन बंद कूड़ेदान में डालें।
  4. बीमार व्यक्ति के नजदीक जाने से बचें – यदि नजदीक जाना पड़े तो बीमार व्यक्ति के पास पूरी सावधानी से जाएँ।
इसे भी पढ़ें...  वैज्ञानिक उपकरण एवं उनके कार्य

कोरोना वायरस के संक्रमण के लक्षण (Symptoms)

  1. तेज बुखार
  2. सूखी खाँसी
  3. साँस लेनें में परेशानी

नोट – उपर्युक्त लक्षण दिखने पर तुरन्त अपने निकटतम स्वास्थ्य केन्द्र में सम्पर्क करें।

सुगम ज्ञान YouTube Channel को SUBSCRIBE करें

सुगम ज्ञान से जुड़े रहने के लिए –

Add to Home Screen

हमारी टीम को प्रोत्साहित करने और नए-नए ज्ञानवर्द्धक वीडियो देखने के लिए सुगम ज्ञान YouTube Channel को SUBSCRIBE जरूर करें। सुगम ज्ञान टीम को सुझाव देने के लिए हमसे Telegram पर जुड़ें। ऑनलाइन टेस्ट लेनें के लिए सुगम ऑनलाइन टेस्ट पर क्लिक करें, धन्यवाद।

चर्चा
(अब तक देखा गया कुल 1,003 बार, 5 बार आज देखा गया)
कृपया पोस्ट शेयर करें...