कृपया पोस्ट शेयर करें...

भौतिक राशियाँ व उनके SI मात्रक

राशि –

जिसको संख्या के रूप में प्रकट किया जा सके उसे राशि कहा जाता है।

भौतिक राशियाँ –

भौतिकी के नियमों को जिन राशियों के पदों में व्यक्त किया जाता है उन्हें भौतिक राशियां कहा जाता है।

भौतिक राशियां दो प्रकार की होती हैं – अदिश राशि और सदिश राशि।

अदिश राशि (Scalar Quanties) –

वे भौतिक राशियां जिनमे दिशा नहीं होती केवल परिमाण होता है। वे भौतिक राशियां अदिश राशि कहलाती हैं।

जैसे – समय, चाल, द्रव्यमान, घनत्व, तापमान, कार्य, आयतन, विद्युत धारा आदि।

सदिश राशि (Vector Quantities) –

वे भौतिक राशियां जिनमे परिमाण के साथ-साथ दिशा भी होती है और जो योग के निश्चित नियमो के तहत जोड़ी जाती हैं, सदिश राशियां कहलाती हैं।

जैसे – बल, वेग, विस्तापन, त्वरण, संवेग, आवेग, रेखीय संवेग, कोणीय विस्थापन, कोणीय वेग, बल आघूर्ण, चुम्बकीय क्षेत्र प्रेरण, चुम्बकीय क्षेत्र तीव्रता, चुम्बकं तीव्रता, चुम्बकीय आघूर्ण, विद्युत् तीव्रता, ताप प्रवणता, चाल प्रवणता, विद्युत् धारा घनत्व, विद्युत् ध्रुव आघूर्ण, विद्युत् ध्रुवण इत्यादि।

माप के मात्रक/इकाई –

किसी राशि के मापन के निर्देश मानक को मात्रक कहते हैं। दी हुयी राशि की उसके मात्रक से तुलना करने की क्रिया को ही मापन कहा जाता है। मात्रक दो प्रकार के होते हैं :- मूल मात्रक और व्युत्पन्न मात्रक

इसे भी पढ़ें...  कार्डेटा संघ के प्रमुख वर्ग (Phylum Chordata Classes)

मूल मात्रक (Fundamental Units) –

किसी भौतिक राशि को व्यक्त करने के लिए प्रयुक्त वे मात्रक जो अन्य मात्रकों से स्वतंत्र होते हैं, मूल मात्रक कहलाते हैं। इनकी संख्या 7 है।

जैसे – मीटर, सेकेण्ड, किलोग्राम, एम्पियर, मोल, केल्विन, कैंडेला।

व्युत्पन्न मात्रक (Derived Units) –

दो या दो से अधिक मूल मात्रकों के माध्यम से व्यक्त किया जाता है तो उसे व्युत्पन्न मात्रक कहा जाता है।

जैसे – न्यूटन, पास्कल, जूल, वोल्ट।

मात्रक पद्धतियां (Unit Systems) :-

भौतिक राशियों के मापन हेतु प्रयुक्त पद्धतियां निम्नलिखित हैं :-

CGS पद्धति (Centimetre Gram Second System) –

इस पद्धति में लम्बाई, द्रव्यमान और समय के मात्रक क्रमशः सेंटीमीटर, ग्राम और सेकेण्ड होते हैं। इसीलिए इसे CGS पद्धति कहा जाता है। इसके अतिरिक्त इसे फ्रेंच या मीट्रिक पद्धति भी कहा जाता है।

MKS (Metre Kilogram Second System) पद्धति –

इस पद्धति में लम्बाई, द्रव्यमान और समय के मात्रक क्रमशः मीटर, किलोग्राम और सेकेण्ड होने के कारण इसे MKS पद्धति कहा जाता है।

FPS (Foot Pound Second System) पद्धति –

इस पद्धति में लम्बाई, द्रव्यमान और समय के मात्रक क्रमशः फुट, पौंड और सेकेण्ड होने के कारण इसे FPS पद्धति कहा जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय मात्रक पद्धति (System Internationale : SI Units) –

यह पद्धति MKS पद्धति का ही संवर्धित व संशोधित रूप है। अंतर्राष्ट्रीय माप- तौल के अधिवेशन 1960 ईo में SI Units को स्वीकार किया गया। SI का पूरा नाम International System of Units (SI) है। आज कल इसी पद्धति का प्रयोग किया जाता है। इसमें सात मूल मात्रक और दो संपूरक मात्रक होते हैं।

इसे भी पढ़ें...  कोरोना वायरस (Corona Virus) के बारे में जानकारी

सात मूल मात्रक – मीटर, किलोग्राम, सेकेण्ड, एम्पियर, केल्विन, कैंडेला, मोल।

सम्पूरक मात्रक – रेडियन, स्टेरेडियन।

भौतिक राशियाँ व उनके SI मात्रक

भौतिक राशि मात्रक भौतिक राशि मात्रक
लम्बाई मीटर द्रव्यमान किलोग्राम
समय सेकेण्ड क्षेत्रफल वर्गमीटर
आयतन घन मीटर घनत्व किग्रा./घन मीटर
बल न्यूटन त्वरण वर्ग मीटर/सेकेण्ड
वेग मीटर/सेकेण्ड चाल मीटर/सेकेण्ड
ऊर्जा जूल शक्ति जूल/सेकेण्ड या वाट
दाब पास्कल कार्य न्यूटन मीटर या जूल
विद्युत् ऊर्जा किलोवाट घंटा विद्युत् प्रतिरोध ओम
ताप केल्विन ऊष्मा जूल
विशिष्ट ऊष्मा जूल/किग्रा.विद्युत् धारा एम्पियर
विद्युत् धारिता फैराड ध्वनि तीव्रता डेसीबल
ज्योति फ्लक्स ल्यूमेन पराध्वनिक गति मैक
आवृत्ति हर्ट्ज तरंगदैर्ध्य एंगस्ट्रम
परम ताप केल्विन समुद्र की गहराई फैदम
संवेग/आवेग न्यूटन सेकेण्ड पृष्ठ तनाव न्यूटन/मीटर
गुप्त ऊष्मा जूल/किग्रा.चुम्बकीय क्षेत्र गॉस
तरंग लम्बाई मीटर लेंस की क्षमता डॉयऑप्टर
विभवांतर वोल्ट जड़त्व आघूर्ण किग्राo वर्ग मीटर
खगोलीय दूरी प्रकाशवर्ष श्यानता न्यूटन सेकेण्ड मीटर -2
चुम्बकीय प्रेरण गाउस तलीय कोण रेडियन
विद्युत् आवेश कूलम्ब विद्युत् विभव वोल्ट
चुम्बकीय फ्लक्स वेबर, मैक्सवेल विद्युत् क्षेत्र तीव्रता न्यूटन प्रति कूलम्ब
ज्योति तीव्रता कैंडेला गुरुत्वीय त्वरण वर्गमीटर/सेकेण्ड
वायुमण्डलीय दाब बार चुम्बकीय तीव्रता टेस्ला
ठोस कोण स्टेरेडियन कोणीय वेग रेडियन/सेकेण्ड

सुगम ज्ञान टीम का निवेदन

प्रिय पाठको,
आप सभी को सुगम ज्ञान टीम का प्रयास पसंद आ रहा है। अपने Comments के माध्यम से आप सभी ने इसकी पुष्टि भी की है। इससे हमें बहुत ख़ुशी महसूस हो रही है। हमें आपकी सहायता की आवश्यकता है। हमारा सुगम ज्ञान नाम से YouTube Channel भी है। आप हमारे चैनल पर समसामयिकी (Current Affairs) एवं अन्य विषयों पर वीडियो देख सकते हैं। हमारा आपसे निवेदन है कि आप हमारे चैनल को SUBSCRIBE कर लें। और कृपया, नीचे दिए वीडियो को पूरा अंत तक देखें और लाइक करते हुए शेयर कर दें अर्थात वायरल कर दीजिये। आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

प्रायोजित

सुगम ज्ञान से जुड़े रहने के लिए

Add to Home Screen

चर्चा
(अब तक देखा गया कुल 53,198 बार, 207 बार आज देखा गया)
कृपया पोस्ट शेयर करें...