स्वागतम्
कृपया पोस्ट शेयर करें...

विश्व के तमाम देशों की भांति भारत न तो पूरी तरह संघात्मक राज्य है और न ही अध्यक्षात्मक। अपितु यहाँ की राजनीति व्यवस्था में इन दोनों का ही एक मिश्रित रूप देखने को मिलता है। यहाँ केंद्र में एक सशक्त सरकार के साथ साथ राज्यों में भी प्रादेशिक सरकारों की व्यवस्था की गयी है। जिस प्रकार केंद्र में शासन का संवैधानिक व औपचारिक प्रमुख राष्ट्रपति और वास्तविक प्रमुख प्रधानमंत्री होता है। ठीक उसी प्रकार से प्रदेशों में सरकार का संवैधानिक एवं औपचारिक प्रमुख राज्यपाल होता है परन्तु सरकार का वास्तविक प्रमुख मुख्यमंत्री होता है।

राज्यपाल :-

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 155 के तहत देश के सभी पूर्ण राज्यों में राष्ट्रपति द्वारा राज्यपाल की नियुक्ति की जाती है। यह प्रदेश में केंद्र का आधिकारिक प्रमुख व प्रतिनिधि होता है। सामान्य तौर पर इसका कार्यकाल 5 वर्ष का होता है। परन्तु अनुच्छेद 156 (1) के तहत यह राष्ट्रपति के प्रसादपर्यंत पद धारण करता है। इसके अतिरिक्त ये अपने कार्यकाल समाप्त होने के बाद भी अपने उत्तराधिकारी की नियुक्ति होने तक पद पे बना रह सकता है। अनुच्छेद 202 (3) के तहत इसके वेतन, भत्ते व पद से संबंधित अन्य सभी व्यय राज्य की संचित निधि पर भारित होते हैं। पद ग्रहण करने से पूर्व ये उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश या वरिष्ठतम न्यायाधीश के समक्ष शपथ ग्रहण करता है।

राज्यपाल के संवैधानिक अधिकार –

  • अनुच्छेद 153 के तहत एक ही व्यक्ति को दो या अधिक राज्यों का राज्यपाल नियुक्त किया जा सकता है।
  • अनुच्छेद 154 (1) के तहत राज्य की कार्यपालिका शक्ति राज्यपाल में निहित होगी।
  • अनुच्छेद 156 के अनुसार यह राष्ट्रपति को सम्बोधित लेख द्वारा अपना त्यागपत्र दे सकता है।
  • अनुच्छेद 157 में राज्यपाल नियुक्त होने से सम्बंधित अर्हताएं वर्णित हैं।
  • अनुच्छेद 161 के तहत किसी व्यक्ति के दंड को क्षमा करने की शक्ति राज्यपाल को प्राप्त है।
  • अनुच्छेद 163 के तहत राज्यपाल को उसके कार्यों में सहायतार्थ एक मंत्रिपरिषद होगी। इसी अनुच्छेद के तहत इसे कुछ विवेकाधिकार भी दिए गए हैं।
  • अनुच्छेद 164 के तहत मुख्यमंत्री की नियुक्ति राज्यपाल करेगा और अन्य मंत्रियों की नियुक्ति राज्यपाल मुख्यमंत्री की सलाह पर करेगा।
  • अनुच्छेद 164 (4) के तहत यदि विधानमण्डल से बाहर का कोई व्यक्ति मंत्रि पद धारण करता है तो वह अधिकतम 6 माह तक उस पद पर बना रह सकता है। इतने समय में यदि वह विधानमंडल का सदस्य नहीं बन पाता है, तो उसे मंत्रिपद से त्यागपत्र देना होगा।
  • अनुच्छेद 168 के तहत यह राज्य की विधायिका का अभिन्न अंग है।
  • अनुच्छेद 176 के तहत राज्यपाल को अविभाषण की शक्ति प्राप्त है।
  • अनुच्छेद 200 के तहत राज्यपाल विधानसभा द्वारा पारित विधेयक को पुनर्विचार के लिए लौटा सकता है या राष्ट्रपति के विचार के लिए सुरक्षित रख सकता है।
  • अनुच्छेद 217 (1) के तहत यह उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की नियुक्ति के संबंध में राष्ट्रपति को सलाह देता है।
  • अनुच्छेद171 (5) के तहत विधान परिषद् के 1/6 सदस्यों को नियुक्त करता है।
  • अनुच्छेद 311 के तहत सरकारी सेवक को मिलने वाली रक्षोपाय व सुरक्षा राज्यपाल को नहीं मिलती।
  • अनुच्छेद 356 के तहत राष्ट्रपति को राज्य सरकार को अपने हाथ में लेने के लिए ( राष्ट्रपति शासन ) आमंत्रित कर सकता है।
इसे भी पढ़ें...  केरल सामान्य ज्ञान (Kerala General Knowledge)

भारत के राज्यों के वर्तमान राज्यपाल और मुख्यमंत्री :-

राज्य/केंद्रशासित प्रदेश मुख्यमंत्री पार्टी राज्यपाल / उपराज्यपाल
असम सर्बानंद बीजेपी जगदीश मुखी
आंध्र प्रदेश जगमोहन रेड्डी YSR कांग्रेस बिस्वा भूषण
अरुणाचल प्रदेश पेमा खांडू बीजेपी बी डी मिश्रा
बिहार नीतीश कुमार जनता दल (यूनाइटेड)फागु चौहान
छत्तीसगढ़ भूपेश बघेल काँग्रेस अनुसुइया उइके
दिल्ली अरविंद केजरीवाल आम आदमी पार्टी अनिल बैजल
गोवा प्रमोद सावंत बीजेपी मृदुला सिन्हा
गुजरात विजय रुरुपाणी बीजेपी आचार्य देवव्रत
हरियाणा मनोहर लाल खट्टर बीजेपी सत्यदेव नारायण आर्य
हिमाचल प्रदेश जयराम ठाकुर बीजेपी कलराज मिश्रा
जम्मू कश्मीर राज्यपाल शासन सत्यपाल मलिक
झारखंड रघुवर दास बीजेपी द्रोपदी मुर्मू
कर्नाटक येदियुरप्पाBJPवजुभाई वाला
केरल पिनाराई विजयन मार्क्सवादी कम्युनिष्ट पार्टी पी. सदाशिवम
मध्य प्रदेश कमलनाथ काँग्रेस लालाजी टंडन
महाराष्ट्र देवेंद्र फडणवीस बीजेपी सी. विद्यासागर राव
मणिपुर एन. वीरेन सिंह बीजेपी डॉ. नजमा हेपतुल्ला
मेघालय कोनराड संगमा नेशनल पीपुल्स पार्टी तथागत राय
मिजोरम जोरामथंगा मिजो नेशनल फ्रंट जगदीश मुखी
नागालैंड नेफियू रियो नेशनल डेमोक्रेटिव प्रोग्रेसिव पार्टी आर. एन. रवि
ओडिसा नवीन पटनायक बीजू जनता दल प्रो. गणेशी लाल
पडुच्चेरी वी. नारायणस्वामी काँग्रेस किरण वेदी
पंजाब अमरिंदर सिंह काँग्रेस वी. पी. सिंह बदनौर
राजस्थान अशोक गहलोत काँग्रेस कल्याण सिंह
सिक्किम प्रेम सिंह तमांग सिक्किम क्रान्तिकारी मोर्चा गंगा प्रसाद
तमिलनाडु के. पलानीस्वामी ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम बनवारीलाल पुरोहित
तेलंगाना के. चंद्रशेखर राव तेलंगाना राष्ट्र समिति ई एस एल नरसिम्हन
त्रिपुरा विप्लव कुमार देव बीजेपी रमेश बेस
उत्तर प्रदेश योगी आदित्यनाथ बीजेपी आनंदी बेन पटेल
उत्तराखंड त्रिवेंद्र सिंह रावत बीजेपी बेबी रानी मौर्या
प. बंगाल ममता बनर्जी तृणमूल काँग्रेस जगदीप धनकर
इसे भी पढ़ें...  धारा 370 समाप्त, जम्मू-कश्मीर अब विशेष राज्य नहीं

WhatsApp पर सुगम ज्ञान से जुड़ें

सुगम ज्ञान टीम को सुझाव देने के लिए हमारे लिए WhatsApp और Telegram पर जुड़ें। ऑनलाइन टेस्ट लेनें के लिए सुगम ऑनलाइन टेस्ट पर क्लिक करें, धन्यवाद।

चर्चा
(अब तक देखा गया कुल 242 बार, 1 बार आज देखा गया)
कृपया पोस्ट शेयर करें...
Close Menu
Inline
Inline