डेली करेंट अफेयर्स 26 अक्टूबर 2022 | Daily Current Affairs in Hindi

अमन सेहरावत ने कुश्ती में भारत को दिलाया गोल्ड, इसरो ने अपना पहला कमर्शियल मिशल किया लांच, सखारोव फ्रीडम प्राइज के बारे में जानकारी…

भारतीय पहलवान अमन सेहरावत

16 वर्षीय अमन सेहरावत अंडर-23 विश्व कुश्ती चैंपियशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय पहलवान बने। इन्होंने चैंपियनशिप के फाइनल में तुर्की के अहमत दुमान को हराकर यह उपलब्धि हासिल की। इस चैंपियनशिप का आयोजन स्पेन के पोंटेवेद्रा में किया गया। इस चैंपियनशिप मे यह भारत का अब तक का सबसे बेहतरीन प्रदर्शन रहा। इस टूर्नामेंट की शुरुवात साल 2017 में की गई थी।


सुगम ज्ञान मासिक क्विज

रजिस्ट्रेशन शुल्क मात्र ₹49/- ₹29/- है। जिसमें आपको पूरे महीने की करंट अफेयर्स पीडीएफ (ई-बुक) मिलेगी और अपनी तैयारी को जाँचने के साथ-साथ नकद इनाम जीतने का मौका मिलेगा। पहला, दूसरा व तीसरा स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभागियों को क्रमशः ₹300, ₹200 व ₹100 का नकद इनाम दिया जाएगा।


लांच व्हीकल मार्क – 3

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने आंध्रप्रदेश के श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से अपना पहला कमर्शियल मिशन लांच किया। इसे लांच व्हीकल मार्क – 3 M2 से लांच किया गया। इसके तहत 36 सैटैलाइट को इनके ऑर्बिट में भेजा गया। ये 36 सैटेलाइट एक यूके आधारित स्पेस कंपनी ‘वनवेब लिमिटेड’ के हैं। यह 558 सैटैलाइट्स का एक लो अर्थ आर्बिट तारामण्डल स्थापित कर रहा है। ‘वनवेब लिमिटेड’ इसरो की एक वाणिज्यिक शाखा न्यूइंडिया स्पेस लिमिटेड का एक ग्राहक है। वर्तमान में इसरो के अध्यक्ष एस. सोमनाथ हैं।

सखारोव फ्रीडम प्राइज 2022 –

युद्धग्रस्त यूक्रेन के लोगों को यूरोपीय संघ के प्रतिष्ठित ‘आंद्रेई सखारोव फ्रीडम प्राइज 2022’ से सम्मानित किया गया है। यूरोपीय संघ द्वारा यह पुरस्कार हर साल प्रदान किया जाता है। उन्हें उनके संघर्ष के लिए सम्मानित करने के लिए यह पुरस्कार प्रदान किया गया है। यह पुरस्कार मानवाधिकार व स्वतंत्रता की रक्षा के लिए कार्य करने वालों को प्रदान किया जाता है। इसके साथ 50 हजार यूरो की धनराशि प्रदान की जाती है। यह पुरस्कार यूरोपीय यूनियन द्वारा यूक्रेन के समर्थन को भी दर्शाता है। हाल ही में यूक्रेन की मानवाधिकार संस्था को इसी साल के नोबल शांति पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है। सखारोव फ्रीडम पुरस्कार की स्थापना 1988 ई. में की गई थी। पहली बार इस पुरस्कार से नेल्सन मंडेला और अनातोली मार्चेंको को सम्मानित किया गया था। इसके बाद 1990 ई. में म्यामांर की आंग सान सू की को इस के लिए चुना गया गया। लेकिन अपने राजनीतिक कारावास के कारण ये इस पुरस्कार को 2013 तक प्राप्त न कर सकीं।

Leave a Comment

चैट खोलें
1
मदद चाहिए ?
Scan the code
हम आपकी किस प्रकार सहायता कर सकते हैं ?